मध्यप्रदेश

छत्तीसगढ़: नक्सली हमले में मृत पत्रकार के परिवार को 15 लाख की सहायता राशि की घोषणा

छत्तीसगढ़ के सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने मंगलवार को 15 लाख रुपये की वित्तीय सहाय

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में मंगलवार को हुए नक्सली हमले में मारे गए दूरदर्शन न्यूज के के कैमरामैन अच्युतानंद साहू के परिवार को छत्तीसगढ़ के सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने मंगलवार को 15 लाख रुपये की वित्तीय सहायता देने की घोषणा की. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि राठौर ने कहा है कि 10 लाख रुपये दूरदर्शन द्वारा अनुग्रह राशि के तौर पर दिए जाएंगे और पांच लाख रुपये प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो की पत्रकार कल्याण निधि से दिए जाएंगे. मंत्री ने संवाददाताओं को बताया कि मृत कैमरामैन की पत्नी को दूरदर्शन में नौकरी भी दी जाएगी.

दंतेवाड़ा में दूरदर्शन की टीम पर नक्सली हमला, एक कैमरामैन और 2 जवानों की मौत

अच्युतानंद साहू और CRPF के दो जवानों की मृत्यु
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में मंगलवार को हुए नक्सली हमले में सब-इंस्पेक्टर रुद्र प्रताप, सहायक कॉंस्टेबल मंगलू और दिल्ली से गए डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू मारे गए. इससे पहले राठौड़ ने ट्वीट किया, ‘‘दंतेवाड़ा में डीडी न्यूज की टीम पर हुए नक्सली हमले की कड़ी निंदा करता हूं. हमारे कैमरामैन अच्युतानंद साहू और सीआरपीएफ के दो जवानों की मृत्यु से बहुत दुखी हूं. यह उग्रवादी हमारे संकल्प को कमजोर नहीं कर सकेंगे. हम जीतेंगे.’’ उन्होंने कहा, “ये विद्रोही हमारे निश्चय को कमजोर नहीं कर सकते. जीत हमारी होगी.”

ता देने की घोषणा की.नक्सलियों ने अचानक कर दी गोलीबारी
इसके साथ ही राठौर ने कैमरामेन के परिवार को हर संभव मदद देने की बात भी कही है. बता दें मंगलवार को दंतेवाड़ा के जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत नीलावाया गांव में दिल्ली से आए तीन मीडियाकर्मी समाचार कवरेज के लिए जा रहे थे. जब मीडियाकर्मी गांव के करीब थे तभी नक्सलियों ने गोलीबारी कर दी, जिसमें कैमरामैन अच्युतानंद साहू की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गई. वहीं, इस घटना में दो पुलिस कर्मी भी शहीद हुए हैं.नीलावाया गांव के करीब नक्सली हमला
वहीं अच्युतानंद साहू के साथी पत्रकार और इस घटना के गवाह धीरज कुमार ने बताया कि ‘राज्य में हो रहे विधानसभा चुनाव में रिपोर्टिंग के लिए आई उनकी टीम पिछले दो दिनों से दंतेवाड़ा क्षेत्र में थी. मंगलवार को उन्होंने नीलावाया गांव जाने का फैसला किया था. उन्हें जानकारी मिली थी कि गांव में 20 साल में पहली बार मतदान होगा. यह समाचार वह लोगों तक पहुंचाना चाहते थे. वे लोग करीब साढे 10 बजे नीलावाया गांव के करीब थे तभी नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी. इस घटना में साहू को गोली लगी और वह वहीं गिर गए.’