देश

तिनसुकिया में उग्रवादी हमले में 5 लोगों की बात से उल्फा का इनकार, चिट्ठी में कहा- ‘ये हमने नहीं किया’

घटना के बाद से ही वहां लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है. असम आज बंद है. कई जगह लोग टायर आदि जलाकर प्रदर्शन भी कर रहे हैं. कोलकाता में हत्या से गुस्साएं लोग जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं. ये प्रदर्शन उत्तरी और दक्षिणी बंगाल में हो रहे हैं. आपको बता दें कि गुरुवार (1 नवंबर) शाम को करीब पौने आठ बजे हुए हमले में उग्रवादियों ने छह युवाओं को उठा लिया था. इसके बाद उग्रवादी इन युवाओं को धोला-सदिया पुल के पास ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे ले गए और उन्हें गोली मार दी. इनमें से चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और एक की अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई और एक गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती है.

मारे गए सभी लोग पश्चिम बंगाल के निवासी थे. असम के मुख्‍यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने इस घटना की कड़ी निंदा की है.  घटना के बाद उग्रवादियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने पूरे इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है.

ULFA has claimed that they are not Involved In tinsukia district Firing

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘असम से बुरी खबर आ रही है. हम तिनसुकिया में हुए बर्बर हमले की निंदा करते हैं. क्‍या यह एनआरसी का नतीजा है? शोकसंतप्‍त परिवारों के प्रति दुख जताने के लिए हमारे पास कोई शब्‍द नहीं है. दोषियों को जल्‍द से जल्‍द सजा दी जानी चाहिए.’

इस गोलीबारी में मारे गए लोगों की शिनाख्त श्यामलाल बिस्वास, अनंत बिस्वास, अभिनाश बिस्वास, सुबोध दास और धनंजय नामशूद्र के रूप में हुई है. मुख्‍यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने घटना की कड़ी निंदा की है. उन्होंने कहा है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी