Panipat

रोडवेज हड़ताल / जींद रैली में ताकत दिखाएंगे कर्मचारी, अंडरग्राउंड नेता भी आएंगे सामने, यहीं से होगी अगली घोषणा

पानीपत. हड़ताल पर चल रहे रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में आए सर्व कर्मचारी संघ और महासंघ अब सरकार को अपनी ताकत दिखाने के लिए पूरी रणनीति बना ली है। 4 नवंबर की जींद रैली को निजीकरण भगाओ, रोडवेज बचाओ रैली का नाम देते हुए इसमें ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने की कोशिश में जुट गए हैं। इसके लिए विपक्ष के सियासी दलों के नेताओं को भी निमंत्रण दिया जा रहा है।

इसके अलावा कर्मचारी नेताओं की ओर डिपो और गांवों का दौरा शुरू कर दिया है। इस रैली में सभी जन संगठनों, ट्रेड यूनियनों, महिलाओं, युवाओं, छात्रों के अलावा पंचायतों एवं प्रदेश की जनता को भी खुला आंमत्रित किया गया है। बड़ी बात यह है कि इस रैली में रोडवेज के वह 12 नेता भी शामिल होंगे, जो भूमिगत है और पुलिस उन्हें ढूंढ रही है।

यदि रैली में इन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश हुई तो वहीं पर टकराव तय है। इस दौरान ही कर्मचारी आंदोलन की नई रणनीति तय करेंगे। क्योंकि इसी दिन तक रोडवेज की हड़ताल घोषित की हुई है। बता दें कि 700 निजी बसों के विरोध में प्रदेश में 16 अक्टूबर से रोडवेज कर्मचारी हड़ताल पर हैं।

सरकार झूठे मकदमे कर रही दर्ज, 11 नेताओं को जेल भेजा :

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लांबा ने बताया कि भिवानी में बुधवार को गिरफ्तार किए 11 नेताओं को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इनमें सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा एवं अध्यापक नेता वजीर सिंह, हरियाणा संयुक्त कर्मचारी संघ के महासचिव शिव कुमार पाराशर, सर्व कर्मचारी संघ के जिला सचिव सुख दर्शन सरोहा व जनवादी महिला समिति की नेता बिमला घणघस हैं। इनके खिलाफ गैरजमानती धाराओं में झूठे केस दर्ज किए हैं। गुरुवार को भी 6 कर्मचारी उनके घरों व धरने से गिरफ्तार किए गए।

रैली में जनसमर्थन जुटाने के लिए 100 से ज्यादा टीमें आज उतरेंगी विभागों में :
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान धर्मबीर फोगाट, महासचिव सुभाष लांबा व वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने बताया कि संघ ने इस रैली को सफल बनाने के लिए पुरी ताकत झौंक दी है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा एवं उससे संबंधित सभी विभागीय संगठनों के केंद्रीय कमेटी के पदाधिकारी एवं सदस्यों के नेतृत्व में सैंकड़ों टीमों का गठन किया गया है। यह टीमें सभी जिलों में 2 व 3 नवंबर को सभी विभागों में गेट मीटिंगों का आयोजन किया जाएगा और कर्मचारियों से भारी संख्या में रैली में शामिल होने का आह्वान करेंगे। हांलाकि सरकार भी अिधकारियों से पल-पल की सूचना ले रही है।

सरकार का नया पैंतरा :सरकार ने हड़ताल खत्म कराने के लिए एक और पैंतरा आजमाया है। कर्मचारियों से कहा कि यदि वे शुक्रवार तक काम पर आते हैं तो उनकी हड़ताल को अवकाश में बदला जा सकता है। इसके गुुरुवार को 259 कर्मचारी वापस काम पर लौटे हैं, हालांकि जो कर्मचारी निलंबित चल रहे हैं, उनके हड़ताल के दिनों को छुट्‌टी में नहीं बदला जाएगा। विभाग ने दावा किया गरुवार को रोडवेज बसों की संख्या 2644 रहीं।