दुनिया

24 घंटे से भी कम समय में बन जाएगा आपका मकान, जानें 2018 के 10 बेस्ट इनोवेशन

ये 2018 के ऐसे 10 डिवाइस और गैजेट जो हमारी जिंदगी और कामकाज को आरामदायक बना देंगे.

नई दिल्ली: टाइम मैगजीन ने हर वर्ष की तरह दुनिया को और बेहतर, स्मार्ट और दिलचस्प बनाने वाले सर्वश्रेष्ठ आविष्कारों को पेश किया है. ये इनोवेशन कई मामलों में एकदम अनूठे हैं. मैगजीन ने 2018 के 50 सर्वश्रेष्ठ इनोवेशन की सूची प्रकाशित की है जो हमारी जिंदगी, कामकाज, मनोरंजन को प्रभावित कर सकते हैं. आइए 10 सर्वश्रेष्ठ इनोवेशन पर एक नजर डाल लेते हैं:

1.रिमोट बन जाएगा स्पीकर 
इसे स्मार्ट स्पीकर कहा जा सकता है. यह आपकी आवाज सुनकर टीवी की आवाज कम ज्यादा करेगा, चैनल बदलेगा, टीवी बंद कर देगा. इस स्पीकर की साउंड क्वालिटी बहुत बढ़िया है. इसमें वूफर्स की पूरी रेंज काम करती है. अमेरिका की कंपनी सोनोज ने इसे बनाया है. इसकी कीमत 399 डॉलर है.

2. बुरी आदतों से बचाएगा ब्रेसलेट   
अमेरिका की कंपनी हैबिटवेयर ने कीन नामक एक ऐसा स्मार्ट ब्रेसलेट बनाया है जो बाल खींचने, खुजलाने, नाखून कुतरने जैसे काम बार-बार करने पर सचेत करता है. ब्रेसलेट वाइब्रेशन के जरिये यूजर को चेतावनी देता है. इससे लोगों का ध्यान बंटता है और वे सचेत होते रहते हैं. अब तक 1 मिलियन से अधिक ब्रेसलेट बिक चुके हैं. इसकी कीमत 149 डॉलर (10,611 रुपये) है.

3. कामगारों की सुरक्षा के लिए सेंसर
फ्यूज रिस्क मैनेजमेंट प्लेटफॉर्म कारखानों और दुकानों में काम करने वाले कामगारों को अधिक सुरक्षा प्रदान करता है. यह एक तरह का सेंसर है जिसे कामगार अपने सीने में लगा सकते हैं. यदि वे अधिक वजन उठा रहे होंगे तो यह खतरे या चोट लगने के संकेत देगा. इसे अमेरिका की कंपनी स्ट्रांग आर्म टेक्स ने तैयार किया है.

4. स्मार्ट स्पोर्ट्स ब्रा 
रीबॉक की डिजाइनर डेनियल विटेक ने काफी जद्दोजहद के बाद मोशन सेंसिंग टेक्नोलॉजी पर आधारित स्पोर्ट्स ब्रा तैयार की है जो हलचल के हिसाब से एडजस्ट होती है. इसके फैब्रिक में जैल जैसा गाढ़ा द्रव ब्रा को सिकुड़ने व एडजस्ट करने में मदद करता है. कंपनी ने अगस्त में इस ब्रॉ को लॉन्च किया था. इसकी कीमत 60 डॉलर (4271 रुपये) है.

निकट भविष्य में कपड़े शरीर को एडैप्ट कर लेंगे. यह वादा जापान की कंपनी जोजो कर रही है. कंपनी ने एक ऐसा ऐप तैयार किया जिसके जरिये आप घर पर ही अपने शरीर का थ्रीडी स्कैन करने उसकी इमेज कंपनी के मोबाइल ऐप पर भेजें. कंपनी उसी के आधार पर एकदम फिट कपड़े बनाकर आपके घर भेज देगी. इसके लिए सफेद डॉट वाले काले बॉडी सूट कंज्यूमर को पहनने होंगे. कंपनी ने जींस की कीमत 58 डॉलर जबकि शर्ट की कीमत 22 डॉलर तय की है.

6. 24 घंटे में 3 डी मकान
इस वर्ष की शुरुआत में, टेक्सास के स्टार्टअप आईकॉन ने 350 वर्ग फीट का मकान 24 घंटे से भी कम समय में तैयार किया था. यह करिश्मा वल्कन थ्रीडी प्रिंटर से संभव हुआ था. आईकॉन ने नौ माह की कड़ी मेहनत के बाद वल्कन 3डी प्रिंटर तकनीकी विकसित की. यह मशीन मकान के अलग-अलग हिस्से बनाती है. इसकी लागत परंपरागत मकानों से भी कम है. हालांकि इसकी कीमत का अभी तक खुलासा नहीं हो पाया.

7. नेत्रहीनों के लिए आंखें
अमेरिका की आयरा नाम की कंपनी सब्सक्रिप्शन सर्विस के आधार पर अपने यूजर्स को उनके आसपास के लाइव वीडियो स्मार्ट फोन या कंपनी के चश्मों के जरिए भेजती है. कंपनी के एजेंट 24 घंटे उपलब्ध रहते हैं जो लाइव वीडियो देखकर नेत्रहीन यूजर को गाइड करते हैं. कंपनी के प्रोडक्ट मैनेजमेंट के डायरेक्टर ग्रेग स्टिलसन हैं जो कि खुद नेत्रहीन हैं. इसके लिए सब्सक्राइबर को 99 डॉलर प्रतिमाह खर्च करने होंगे.

8. दीवार जैसा टीवी 
शोज और मूवीज देखने के दौरान आजकल टेलीविजन हैरतअंगेज विजुअल दिखाते हैं. जैसे ही बंद हो जाते हैं, वह ब्लैक बॉक्स बन जाते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. सैमसंग का 4-के क्यूएलईडी कमरे की दीवार के साथ पूरी तरह मिल जाता है. आपको ऐसा लगेगा जैसे जैसे वहां कमरे की दीवार है, टीवी नहीं. यह एम्बिएंट मोड में आर्ट वर्क, मौसम रिपोर्ट या निजी फोटो भी दिखा सकता है. इसकी कीमत 1099 डॉलर बताई जा रही है                       .

9. एक इजेंक्शन से माइग्रेन का इलाज
दुनियाभर में करीब 12.7 करोड़ से लेकर 30 करोड़ लोग माइग्रेन से पीड़ित हैं. माइग्रेन से लोगों के कामकाज पर बुरा असर पड़ता है. इसके इलाज के बहुत कम विकल्प हैं. एमजेन फार्मा ने एक ऐसा इंजेक्शन तैयार किया है जो माइग्रेन के सिरदर्द से राहत दिलाएगा. इस इंजेक्शन महीने में एक बार लगवाना पड़ेगा. रोज-रोज दवा खाने से छुटकारा मिलेगा. इसकी कीमत 575 डॉलर प्रति खुराक है.

10. रोशनी के हिसाब से एडजस्टेबल कांटेक्ट लेंस
एकुवे, जॉनसन एंड जॉनसन विजन ने एडजस्टेबल कांटेक्ट लेंस बनाया है जो रोशनी के हिसाब से दृश्यता सुधारेंगे. इसमें लगा फिल्टर प्रकाश की तीव्रता भांपकर रोशनी कम-ज्यादा करेगा. अगले साल बाजार में आ सकता है. इस पर पिछले एक दशक से काम चल रहा था. इस वर्ष अप्रैल में एफडीए ने क्लीयरेंस दी थी