देश

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सेना ने मार गिराए हिजबुल के दो आंतकी.

जानकारी के मुताबिक, फिलहाल एनकाउंटर बंद है, लेकिन सर्च ऑपरेशन अभी भी जारी है. सुरक्षा बलों ने घटनास्थल से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किए गए हैं. पुलिस ने बताया कि आतंकियों की मौजूदगी की सूचना के बाद सुरक्षाबलों ने इलाके को चारों तरफ से घेरा, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हुई. दोनों आतंकी हिजबुल मुजाहिदीन संगठन से थे और उनकी पहचान कर ली गई है.

 

2 terrorists killed in encounter in Tikun village of Pulwama Jammu & Kashmir

बताया जा रहा है कि शनिवार (10 नवंबर) की सुबह को सुरक्षा बलों को खुफिया सूचना मिली कि तिक्केन इलाके में कुछ आतंकी छुपे हुए हैं. सूचना के बाद तुरंत ही राष्ट्रीय राइफल्स और सीआरपीएफ और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप की टीमें मौके पर पहुंचीं और तलाशी अभियान शुरू किया. सुरक्षा बलों को देखते ही आतंकियों की तरफ से फायरिंग शुरू हो गई, जवाबी हमले में दो आतंकियों को माक गिराया गया. सेना के मुताबिक, दोनों आंतकियों की पहचान भी हो गई है.

घुसपैठ की कोशिश में आतंकवादी ढेर, बारूदी सुरंग में विस्फोट से 1 जवान शहीद

सेना के मुताबिक, मारे गए एक आतंकी का नाम लियाकत अहमद है, जबकि दूसरे आतंकी का नाम वाजिद है. लियाकत अहमद पुलवामा के निचले इलाके का रहने वाला था. वहीं, दूसरा आतंकी वाजिद भी पुलवामा का ही रहने वाला है. सुरक्षा बलों ने एहतियातन पुलवामा जिले में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है.

आतंक के खिलाफ ऑपरेशन में इस साल अब तक 142 आतंकवादी किए गए हैं ढेर : डीजी CRPF

आपको बता दें कि इससे पहले शुक्रवार (09 नवंबर) को ही पुलवामा जिले के त्राल इलाके में सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद का एक पाकिस्तानी आतंकवादी ढेर हो गया था. पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने त्राल के डार गंगीगुंड इलाके में घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया था. उन्होंने कहा कि मृतक की पहचान पाकिस्तानी नागरिक के तौर पर हुई है. सुरक्षाबलों ने नवंबर महीने में कम से कम 10 आतंकियों को मार गिराया है. इस दौरान सुरक्षाबलों को स्थानीय लोगों के विरोध प्रदर्शनों का भी सामना करना पड़ा है.