दुनिया

समंदर में भारत को घेरने की तैयारी में चीन-पाकिस्तान, ऐसे चल दी ‘चतुर चाल’

नई दिल्ली: चीन भारत के खिलाफ पाकिस्तान को लगातार मजबूत करने में लगा हुआ है. भारत के खिलाफ जासूसी के लिए जहां चीन ने पिछले दिनों पाकिस्तान के लिए दो सेटेलाइट लांच किये थे. इसके अलावा ग्वादर से लेकर भारत पाकिस्तान सीमा पर तैनात पाकिस्तानी सेना की चीन मदद कर रहा है. चीन ने भारतीय महासागर में भारतीय नौसेना की बढ़ती ताकत पर अंकुश लगाने के लिए 8 नए पनडुब्बियों को पाकिस्तानी नौसेना को मुहैया करा रहा है.

सूत्रों के मुताबिक प्रोजेक्ट हैंगूर के तहत चीन की चाईना शिपब्लिडिंग इंडस्ट्री कार्पोरेशन पाकिस्तानी नौसेना के लिए 8 नये पनडुब्बियों को बना रही है, जो जल्द ही पाकिस्तानी नौसेना को सौंपी जायेगी. देखा जाये तो भारतीय नौसेना के पास 16 पनडुब्बियां हैं जबकि पाकिस्तानी नौसेना के पास कुल 10 पनडुब्बियां हैं. चीन की इस मदद से भारतीय समुद्री सीमा में इन दोनों देशों से भारतीय नौसेना को एक साथ चुनौती मिलने वाली है.

चीनी नौसेना भी आये दिन भारतीय समुद्री सीमा में लगातार घुसपैठ करने की कोशिश में लगी हुई है. ऐसे में भारत के सामने चीन और पाकिस्तान दोनों से चुनौती मिल रही है. इस साल जनवरी के महीने में भारत ने स्कॉर्पीन क्लास की तीसरी पनडुब्बी ‘करंज’ मुंबई के मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (एमडीएल) से लॉन्च की थी.

प्रॉजेक्ट 75 प्रोग्राम के तहत एमडीएल द्वारा बनाए जाने वाली 6 पनडुब्बियों में से यह तीसरी है. इस श्रेणी की पहली पनडुब्बी आईएनएस कलवरी पिछले साल 14 दिसंबर को लॉन्च की गई थी. वहीं दूसरी पनडुब्बी खांदेरी भी पहले ही लॉन्च की जा चुकी है, जिसका समुद्र में ट्रायल किया जा रहा है.

यही नहीं भारत पर नजर रखने के लिए चीन और पाकिस्तान ने मिलकर दो सेटेलाइट बनाई है. चीन ने रिमोट सेंसिंग सेटेलाइट बनाई है, जिसका नाम PRSS-1 है, तो वहीं पाकिस्तान के वैज्ञानिकों ने PakTES-1A नाम से सेटेलाइट तैयार की है. इन दोनों सेटेलाइट को इस महीने  चीन के उत्तर पश्चिमी प्रांत जियुकुआन सेटेलाइट लॉन्च सेंटर से लांच किया गया.

चीन की PRSS-1 सैटेलाइट दिन और रात के समय मॉनिटरिंग करने में सक्षम है, यहां तक कि घने बादलों में भी देखने में सक्षम है.