देश

तमिलनाडु में ‘गाजा’ तूफान से 13 की मौत, पीएम मोदी ने जताया शोक

अधिकारियों ने करीब 81,948 लोगों को कुड्डलूर, नागपट्टिनम, रामनाथपुरम, तंजावुर, पुडुकोट्टई और तिरुवरुर जिलों के 471 राहत केंद्रों में पहुंचाया.

नागपट्टिनम/चेन्नई: भीषण चक्रवातीय तूफान ‘गाजा’ शुक्रवार की सुबह नागपट्टिनम से गुजरा जिसके बाद बड़ी संख्या में पेड़ों के गिरने तथा बिजली के तारों के टूटने से तटीय जिलों में विनाश का दृश्य पैदा हो गया और 13 लोगों की जान इसमें चली गई. यह तूफान शुक्रवार सुबह नागपट्टिनम और वेदारण्यम के बीच तमिलनाडु तट से गुजरा. उस वक्त हवा की रफ्तार करीब 120 किलोमीटर प्रतिघंटा थी. अधिकारियों के अनुसार, तूफान से संबंधित घटनाओं में दस पुरुष और तीन महिलाओं की मौत हो गई. 28 मवेशी बह गये. अधिकारियों ने करीब 81,948 लोगों को कुड्डलूर, नागपट्टिनम, रामनाथपुरम, तंजावुर, पुडुकोट्टई और तिरुवरुर जिलों के 471 राहत केंद्रों में पहुंचाया.

फोटो:ANI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गाजा तूफान के कारण मारे गए लोगों के लिए संवेदनाएं व्यक्त कीं. पीएम मोदी ने कहा कि तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में आए इस तूफान के कारण अपनी जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं. मैं कामना करता हूं कि घायल जल्द स्वस्थ लाभ करें. अधिकारियों द्वारा इस स्थिति से निपटने के लिए हरसंभव मदद और राहत कार्य किया जा रहा है. पीएम मोदी ने हालात की जानकारी लेने के लिए तमिलनाडु के सीएम पलानीसामी से बात की. उन्होंने पलानीस्वामी को केंद्र से हरसंभव मदद का आश्वासन भी दिया.

तूफान से नागपट्टिनम जिले के वेलनकन्नी में 16वीं सदी का बेसीलिका चर्च तबाह हो गया. लोगों की मौत पर दुख जताते हुए मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने मृतकों के परिजनों के लिए 10-10 लाख रुपये और घायलों को 25 हजार से एक लाख रुपये देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों को आदेश दिया है कि तूफान की वजह से फसलों, मछली पकड़ने की नौकाओं, घरों और मवेशियों को होने वाले नुकसान के बारे में तत्काल पता लगाएं. लोगों की जान जाने के अलावा 1471 झोपड़ियां आंशिक रूप से तबाह हो गयीं और 216 पूरी तरह ध्वस्त हो गयीं. इन जिलों में 4987 पेड़ जड़ से उखड़ गये.

उन्होंने कहा कि चुनौतीपूर्ण काम था लेकिन हमें विश्वास है कि हमने शत प्रतिशत सुरक्षित तरीके से इसका सामना किया. पड़ोसी पुडुचेरी में भी भारी बारिश और तेज हवाओं का प्रकोप है. मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने हालात की समीक्षा की. जिला कलेक्टर विजय अभिजीत चौधरी ने कहा कि वनरापेट गांव की 70 वर्ष की एक महिला को उस समय सिर में चोट आई जब कल रात बारिश की चपेट में आने से उसके घर की दीवार गिर गयी.