बिज़नेस

डिजिटल विज्ञापन में गूगल और फेसबुक का है वर्चस्व, जानिये बाजार में कितनी है इनकी हिस्सेदारी

नई दिल्ली: डिजिटल प्लेटफॉर्म पर विज्ञापन के मामले में दुनियाभर में गूगल और फेसबुक के बढ़ते वर्चस्व से स्वतंत्र और छोटी विज्ञापन तकनीकी कंपनियों के सामने चुनौतियां खड़ी हो रही हैं. वर्ष 2013 की तुलना में इन कंपनियों में 21 प्रतिशत की कमी आई है. इस साल की दूसरी छमाही तक ऐसी कंपनियों की संख्या 185 थीं. न्यूयॉर्क टाइम्स के रिपोर्ट के हवाले से बताया गया है कि विज्ञापन तकनीक वाली स्टार्ट अप कंपनियों में लगने वाली पूंजी में तेजी से गिरावट आ रही है.

रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल और फेसबुक के विज्ञापन पर मजबूत पकड़ होने की वजह से ऑनलाइन विज्ञापन कंपनियां पिछले कुछ सालों से काफी संघर्ष कर रही हैं. यह बात लुमा पार्टनर्स सहित कई वैश्विक मार्केटिंग रिसर्च कंपनियों ने कही है.

बीते साल ऑनलाइन विज्ञापन पर दुनियाभर में खर्च 88 अरब डॉलर से भी अधिक था, जिसमें 90 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी गूगल और फेसबुक की रही. रिपोर्ट में बताया गया है कि आने वाले समय में अमेजन भी इस बाजार में अपना हाथ आजमाने की तैयारी में है.

बताया जाता है कि आने वाले समय में अमेजन दुनिया के दो दिग्गज- गूगल और फेसबुक के लिए शीर्ष प्रतिद्वंद्वी कंपनी होगी. कंपनी ने इस साल दूसरी छमाही में विज्ञापन कारोबार से 2.2 अरब डॉलर का राजस्व हासिल किया है.

हाल में एक शोध रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि कंपनियां वर्ष 2023 तक डिजिटल मार्केटिंग में 55 प्रतिशत अधिक निवेश करेंगी. शोध कहता है कि सर्च इंजन गूगल की शॉपिंग करने की अपील थोड़ी कम हो सकती है. इसकी वजह भी अमेजन या अन्य वेबसाइट हो सकती हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि ग्राहक की खरीदारी के तरीकों में महत्वपूर्ण बदलाव लगातार देखे जा रहे हैं. खरीदार अमेजन जैसी रिटेल वेबसाइट की ओर रुख कर रहे हैं, जबकि गूगल और बिंग सवाल के जवाब के लिए है. यह बदलाब अमेजन को मजबूती प्रदान करेगा.