देश

दस्तकार का वार्षिक कार्निवल 15 नवंबर से, इस बार लोटस थीम पर सजेगा मेला

दस्तकार की संस्थापक लैला तैयबजी ने कहा, “वार्षिक दस्तकार प्राकृतिक सामग्रियों, कार्बनिक और पर्यावरणीय प्रथाओं और उत्पादों, घास की जड़ें और निश्चित रूप से पारंपरिक और नए आयु शिल्प के साथ आने के लिए बहुत उत्सुक हैं.

नई दिल्ली: दस्तकार का वार्षिक कार्निवल ‘प्रकृति 2018′ इस बार 15 से 26 नवंबर तक आयोजित किया जा रहा है. इस बार कार्निवल की थीम लोटस रखी गई है. लोटस के विषय से प्रेरित पसंदीदा शिल्प और उत्पादों का एक विविध संग्रह इस कार्निवल में पेश किया जाएगा जो प्रकृति की भावना को जोड़ता है, चाहे वह जूट हो या केला फाइबर, लकड़ी की नक्काशी या लाह और ढोकरा की सजावट हों.

दस्तकार की संस्थापक लैला तैयबजी ने कहा, “वार्षिक दस्तकार प्राकृतिक सामग्रियों, कार्बनिक और पर्यावरणीय प्रथाओं और उत्पादों, घास की जड़ें और निश्चित रूप से पारंपरिक और नए आयु शिल्प के साथ आने के लिए बहुत उत्सुक हैं. एक समय जब हम सभी को अपने ग्रह को बचाने के महत्व के बारे में और अधिक जागरूक होने की आवश्यकता है, आइए हमारे साथ प्रकृति का जश्न मनाएं. ”

Image may contain: 4 people
(फोटो-facebook.com/laila.tyabji)

दस्तकार ने एक बयान में कहा कि रेडियंट बनारसी ब्रॉयड्स उत्तर प्रदेश, टस्सर बुनाई बिहार, कोटपाड़ बुनाई ओडिशा, गरम चमकदार ऊनी कपड़े का बना हुआ हिमाचल प्रदेश, गुजरात और कश्मीर की बनी हुई ब्लॉक प्रिंटेड एम्ब्रॉइडेड नैचुरली सुशोभित चमकीली शाल, ब्लू पॉटरी, लकड़ी के फर्नीचर..ये सभी चीजें दस्तकार में पा सकते हैं.