क्रिकेट

इमरान खान ने कभी नो-बॉल नहीं फेंकी, अपनी कप्‍तानी में भारत से एक भी टेस्‍ट नहीं हारे

1970-80 के दशक में लंबे कद, खुली छाती और लंबे बालों वाले ‘करिश्‍माई’ क्रिकेटर इमरान खान जब बॉलिंग के लिए उतरते थे तो जितनी सधी उनकी गेंदबाजी थी, उतना ही सधा और आकर्षक  उनका बॉलिंग एक्‍शन था. वो तेज गति से बॉल डालने के लिए लहराते बालों के विकेट तक आना और उछलते हुए विकेट से थोड़ा दूर हटकर बाल फेंकने का उनका एक्‍शन आज भी लोगों के जेहन में बसा हुआ है. हालांकि इसके साथ ही उनका एक्‍शन इतना जबर्दस्‍त सधा हुआ था कि उन्‍होंने अपने क्रिकेट करियर में एक भी नो बॉल नहीं फेंकी.

निश्चित रूप से वह पाकिस्‍तान के महानतम कप्‍तान हैं. ऐसा इसलिए क्‍योंकि संन्‍यास के बाद पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री की गुजारिश पर 1992 के वर्ल्‍ड कप के लिए अपनी टीम की कप्‍तानी करने के लिए 39 साल की उम्र में टीम में वापस आना और टीम को वर्ल्‍ड कप दिलाना किसी ‘परी कथा’ जैसी ही लगती है. संभवतया इसलिए ही उनको पाकिस्‍तान का सबसे महानतम कप्‍तान कहा जाता है. दुनिया के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडरों में भी शुमार किए जाते हैं. इमरान खान ने कुल 88 टेस्‍ट खेले हैं. 38 रन के औसत के साथ 3,807 रन बनाए हैं और 362 विकेट लिए हैं. उन्‍होंने इसके साथ 175 वनडे भी खेले हैं. अब वही इमरान खान पाकिस्‍तान के अगले प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं. उनकी पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ सबसे बड़ा दल बनकर पाकिस्‍तान चुनाव में बनकर उभरी है.

imran khan
अपनी कप्‍तानी में इमरान खान ने 48 टेस्‍ट मैचों की अगुआई की.

पाकिस्‍तान के महानतम कप्‍तान
1982 में पाकिस्‍तान क्रिकेट का कप्‍तान बनने के बाद अगले एक दशक तक वह पूरी तरह से पाक क्रिकेट पर छाए रहे. वह अपनी टीम के कप्‍तान ही नहीं बल्कि ‘सुपर बॉस’ थे. क्रिकेट की गहरी समझ रखने वाले इमरान के बारे में कहा जाता है कि उनके अंदर प्‍लेयर्स के टैलेंट को पहचानने की जबर्दस्‍त खूबी थी. इसलिए अगले एक दशक तक उन्‍होंने टीम में वसीम अकरम से लेकर इंजमाम-उल हक जैसे प्‍लेयर्स को मौका दिया. नतीजतन जब वह रिटायर हुए तो उस वक्‍त तक पाकिस्‍तान के पास भविष्‍य की राह के लिए खब्‍बू क्रिकेटरों की एक नई पीढ़ी तैयार हो गई थी. अपनी कप्‍तानी में इमरान खान ने 48 टेस्‍ट मैचों की अगुआई की. इनमें से 14 टेस्‍ट मैचों में वह जीते. आठ हारे और 36 ड्रॉ रहे.

भारत से मुकाबला
चिर प्रतिद्वंद्दी भारत और पाकिस्‍तान के बीच मुकाबला हमेशा रोचक होता है. उनकी कप्‍तानी में पाकिस्‍तान ने भारत के साथ 15 टेस्‍ट मैच खेले. इनमें से चार पाक जीता और बाकी ड्रॉ रहे. 1982-83 में वह भारत के साथ सीरीज में उन्‍होंने भारत के खिलाफ सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन किया. उस सीरीज में 247 रन बताते हुए उन्‍होंने 40 विकेट लिए. पाकिस्‍तान ने 3-0 से सीरीज जीती.