दिल्ली देश राजस्थान हरियाणा

धूल के गुबार के कारण चंडीगढ़ में विमानों के पहिए रुके, 3 दिन और परेशान करेगी जहरीली हवा

नई दिल्ली : राजस्थान में धूल भरी हवाएं चलने के कारण दिल्ली-एनसीआर की हवा तो प्रभावित हुई ही है, आसपास के राज्‍यों में भी गुबार छाया हुआ है. इसका सबसे ज्‍यादा असर चंडीगढ़ पर पड़ा है. वहां विमानों की आवाजाही एकदम रुक सी गई है. इंडिगो ने चंडीगढ़ से दिल्ली आने-जाने वाली सभी फ्लाइट को रद्द कर दिया है. इसके साथ ही अन्य एयरलाइंस ने भी 5 फ्लाइट को रद्द कर दिया है. इस बीच मौसम विभाग ने लोगों को खबरदार किया है. उसका कहना है कि धूल का गुबार 48 से 72 घंटे तक छाया रहेगा. चंडीगढ़ के मौसम विभाग के निदेशक एस पॉल ने कहा कि मॉनसून अभी कमजोर दिख रहा है. जून के अंत तक इलाके में बारिश होने की संभावना है. धूल के गुबार से 48 से 72 घंटे बाद ही राहत मिल पाएगी.

दिल्ली में क्यों है धूल का गुबार
केन्द्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने दिल्ली के ऊपर छाए धूल केे गुबार के लिये राजस्थान में आई धूल भरी आंधी को मुख्य वजह बताया है. मंत्रालय ने इन दिनों दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ने को अस्वाभाविक बताते हुए कहा कि इसकी मुख्य वजह राजस्थान में आने वाली धूल भरी आंधी है. जिसके कारण दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हवा के कम दबाव का क्षेत्र बनने की वजह से हवा में मिले धूलकण जमीन के कुछ ऊंचाई पर जमा हो जाते हैं.

ANI @ANI

दिल्ली में खतरे के स्तर पर PM-10
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (EPCA) के आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में PM-10 का स्तर 823 के पार चला गया था. यह सामान्य स्तर से 8 गुना ज्यादा है, जो पुअर कैटेगरी में आता है. बता दें कि PM यानी पार्टिक्यूलेट मेटर, ठोस और लिक्विड के कण होते हैं जो हवा में तैरते रहते हैं. इनका डायामीटर 10 माइक्रोमीटर से भी कम होता है, जिसके चलते ये आसानी से फेफड़ों में पहुंचकर सांस लेने में दिक्कतें जैसी कई खतरनाक बीमारियां पैदा करते हैं.