देश

आज संसद में पहली बार होगी मोदी और राहुल की आमने-सामने की टक्कर

नई दिल्ली : नरेंद्र मोदी सरकार आज (शुक्रवार को) संसद में अपने पहले अविश्वास प्रस्ताव का सामना करेगी. इसके साथ ही चार साल में पहली बार ऐसी स्थिति आएगी जब इतने महत्वपूर्ण विषय पर लोकसभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक ही दिन में एक-दूसरे पर सीधा वार करेंगे. इस तरह से राहुल गांधी की वह चुनौती भी आज पूरी हो जाएगी, जिसमें वे कहते रहे हैं कि प्रधानमंत्री मुझे संसद में 15 मिनट बोलने का मौका दें, तो वे उनकी बोलती बंद कर देंगे. हालांकि अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा में कांग्रेस को अपनी बात रखने के लिए करीब आधा घंटा और बीजेपी को साढ़े तीन घंटे मिले हैं.

इससे पहले भूमि अधिग्रहण बिल, नोटबंदी, जीएसटी और राष्ट्रपति के अभिभाषणों पर चर्चा में दोनों नेताओं ने एक साथ भाग लिया है, लेकिन हर बार संयोग ऐसा रहा कि जब राहुल बोले तो प्रधानमंत्री उस दिन न बोलकर आगे किसी दिन बोले. हालांकि ऐसे मौके कई बार आए हैं जब एक नेता बोल रहा हो और दूसरा सामने बैठा उनकी बात सुन रहा हो.

इस लोकतांत्रिक जंग में अब तक दोनों ही नेताओं की टीम ने बढ़िया पास बनाए हैं और दोनों ही नेताओं ने सटीक शॉट गोलपोस्ट पर मारे हैं. अगर चार साल के ट्रेक रिकॉर्ड को देखें तो दोनों नेताओं के प्रमुख हमले इस तरह नजर आएंगे….

अप्रैल 2015

सूट बूट की सरकार बनाम सूटकेस की सरकार
संसद के बजट सत्र में प्रधानमंत्री मोदी पर हमला करते हुए राहुल गांधी ने मोदी सरकार को सूट बूट की सरकार बताया. दरअसल, इससे पहले 26 जनवरी को जब अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि बने तो उस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने काफी महंगा सूट पहना था. बाद में वह सूट नीलाम कर उसकी रकम सरकारी खजाने में जमा कर दी गई.

राहुल के इस तंज का जवाब संसद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दिया. उन्होंने कहा कि सूट बूट की सरकार लूट की सरकार से अच्छी है. प्रधानमंत्री ने संसद के बाहर इसका जवाब दिया, सूट बूट की सरकार सूटकेस की सरकार से अच्छी है.

मार्च 2016

फेयर एंड लवली योजना बनाम कुछ लोगों को समझ नहीं आती
नोटबंदी से पहले केंद्र सरकार ने कालाधन रखने वालों के लिए तय पैनाल्टी के साथ अपनी आय घोषित करने की योजना चलाई थी. इस योजना पर तंज करते हुए राहुल गांधी ने लोकसभा में कहा था, मोदी जी की सरकार फेयर एंड लवली योजना लाई है. इस योजना के तहत कालेधन वाले सेठ अपनी काली कमाई को गोरा कर लेंगे.

अगले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में राहुल पर तंज किया: कुछ लोगों की उम्र तो बढ़ जाती है, लेकिन समझदारी नहीं बढ़ती. क्या करें ऐसा होता है, इसमें कुछ नहीं किया जा सकता.

जुलाई 2016

हर हर मोदी नहीं, अरहर मोदी
राहुल गांधी ने लोकसभा में कहा: प्रधानमंत्री जी आपने उत्तर प्रदेश में कहा था कि मुझे प्रधानमंत्री मत बनाओ, चौकीदार बनाओ. मैं देश का चौकीदार बनना चाहता हूं. लैंड के मामले में चौकीदार ने तीन बार ऑर्डिनेंस रखा, किसानों की जमीन छीनने की कोशिश की. इसी बहस को खत्म करते हुए राहुल ने अंत में कहा कि लोग अब हर हर मोदी की जगह अरहर मोदी कह रहे हैं. वे अरहर के बड़ी कीमतों की तरफ इशारा कर रहे थे.

इस लड़ाई का नया और आमने सामने का अध्याय आज लिखा जाना है. राहुल गांधी के पास आज वे 15 मिनट होंगे जिनकी मांग वे लगातार करते रहे हैं. और प्रधानमंत्री के पास आज ही पूरा समय होगा कि वे राहुल के आरोपों का भिगो भिगोकर जवाब दें.