बिहार एवं झारखंड

झारखंडः नक्सली बन लोगों को धमकी देकर मांगता था लेवी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

पश्चिमी सिंहभूम जिले के चक्रधरपुर, सोनुवा, गोइलकेरा जैसे इलाकों में माओवादियों के नाम पर पोस्टरबाजी कर दहशत फैलाने का एक गैंग काम कर रहा था. झारखंड बंद का आह्वान, लेवी और रंगदारी मांगने वाले एक फर्जी नक्सली वरूण महतो को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

बताया जाता है कि वरूण महतो पूरे हाईटेक तरीके से लेवी मांगता था. वह इसके लिए एक मोबाइल एप फन एंड फक्शन के जरिए अपनी आवाज को बदलता था. वह फोन पर कभी लड़की की आवाज में तो कभी लड़के के आवाज में फोन पर धमकता था. वहीं, डराने के बाद लेवी या रंगदारी की मांग करता था.

उसके इसी अंदाज से पिछले तीन-चार साल से वह माओवादियों के नाम पर पोडाहाट इलाके में दहशत फैला रखा था. उसपर किसी को थोड़ा भी संदेह नहीं हो पा रहा था, लेकिन हाल के दिनों में पोस्टरबाजी के लगातार बढ़ती घटना के बाद पुलिस ने जाल बिछाया. पुलिस ने वरूण को एक सरकारी शिक्षक से 12 लाख रुपये रंगदारी वसूलने के दौरान अरेस्ट किया है.

बताया जा रहा है कि गिरफ्तार वरूण महतो सोनुवा थाना के पोडाहाट गांव का ही रहने वाला है, और वह जिससे रंगदारी मांगता था उसके बारे में सारी जानकारी रखता था. पिछले माह झारखंड बंद की फर्जी घोषणा पर जब सोनुवा थाना प्रभारी ने खंडन कर बाजार बंद होने से रोक दिया, तो उसके बाद उसने थाना प्रभारी को भाकपा माओवादियों के नाम पर पर्चा जारी कर धमकी दी थी.

इस घटना के बाद ही वह पुलिस के रडार पर आ गया था. एसपी क्रांति कुमार ने बताया कि क्षेत्र में पोस्टर बाजी कर वह फोटो खींच कर स्वयं ही मीडिया में भी फैलाता था. और मीडिया में खबर आने के बाद इस पोडाहाट क्षेत्र में दुकानें और बाजार बंद हो जाता था. उसके बाद वह फोन के जरिए लोगों को धमकाने का काम शुरू कर देता था.