जम्मू - कश्मीर

जम्मू-कश्मीर में ISIS समर्थक महिला समूह की एंट्री, घाटी में फैला रही हैं बगदादी की विचारधारा!

अलगवावादियों, पत्थरबाजों और आतंकवादियों के बाद अब जम्मू-कश्मीर में महिला आतंकवादियों की भी मौजूदगी दर्ज की गई है.

नई दिल्ली: सूत्रों से मिली एक अहम जानकारी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में अब महिला आतंकवादियों का भी खौफ गहराने लगा है. अलगवावादियों, पत्थरबाजों और आतंकवादियों के बाद अब जम्मू-कश्मीर में महिला आतंकवादियों की भी मौजूदगी दर्ज की गई है. बताया जा रहा है कि देश की खुफिया एजेंसियों ने गृह मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपी है. रिपोर्ट के जरिए गृह मंत्रालय को आगाह किया गया है कि जम्मू-कश्मीर में ISIS समर्थक महिला समूह, दौलत-उल-इस्लाम, काम कर रहा है. शुक्रवार को सेना के साथ हुई मुठभेड़ में ISIS आतंकियों की मौत के बाद यह खबर और भी महत्वपूर्ण हो जाती है क्योंकि ऐसा लग रहा है कि कश्मीर में ISIS अपनी पैठ मजबूत करने की कोशिश करने में लगा है.

घाटी के कुछ हिस्सों में फैला रही हैं आईएसआईएस की विचारधारा
रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि आतंकवादी संगठन से जुड़ी महिलाओं का एक समूह घाटी के कुछ हिस्सों में आईएसआईएस की विचारधारा का समर्थन करने वाले भाषण देते हुए नजर आया है. जम्मू-कश्मीर में ISIS की महिला सदस्यों के सक्रिय होने का यह पहला मामला माना जा रहा है.

मार्च में मारे गए आतंकी के घर दिया था भड़काऊ भाषण
मार्च में अनंतनाग में एक आतंकवादी की मौत के बाद घाटी में दौलत उल इस्लाम के सदस्यों की गतिविधियां पहली बार सामने आई थीं. रिपोर्ट में कहा गया है कि समूह के सदस्यों ने कथित रूप से उस आतंकी के घर का दौरा किया और जेहाद के पक्ष में भड़काऊ भाषण दिए थे.

अमरनाथ यात्रा पर हमला करने की फिराक में थे आईएसआईएस के आतंकी
वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में शुक्रवार को हुए सेना के एक बड़े ऑपरेशन में बड़ी कामयाबी हाथ लगी. सुरक्षाबलों ने 4 आतंकियों को मौके पर ही ढेर कर दिया. इस ऑपरेशन से पहली बार इस बात की तस्दीक भी हो गई कि घाटी में आईएसआईएस ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं. हालांकि इस ऑपरेशन में आईएसआईएस का जम्मू-कश्मीर का सरगना ढेर हो गया. इस ऑपरेशन को इसलिए भी अहम करार दिया जा रहा है, क्योंकि सुरक्षाबलों के सूत्रों के अनुसार, ये चारों आतंकी अमरनाथ यात्रा के समय बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे.