देश

गुरुदास कामत के निधन पर भावुक हुए राहुल, कहा- ‘परिवार के लिए बड़ा आघात है’

नई दिल्ली : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री गुरुदास कामत का आज सुबह दिल का दौरा पड़ने से यहां निधन हो गया. वह 63 वर्ष के थे. कामत को सांस लेने में दिक्कत होने के बाद सुबह करीब सात बजे चाणक्यपुरी के प्राइमस अस्पताल ले जाया गया, लेकिन रास्ते में ही उनकी मृत्यु हो गई. सूत्रों ने बताया कि कामत के सहायक ने सुबह उन्हें चाय दी. उसी दौरान उन्होंने सांस लेने में दिक्कत होने की बात कही. उनका ड्राइवर उन्हें तुरंत अस्पताल ले गया.

ईद की बधाई का किया था आखिरी ट्वीट
सुबह वह वसंत एन्क्लेव स्थित अपने निजी आवास पर अकेले ही थे. उनका परिवार पार्थिव शरीर ले जाने के लिए मुंबई से रवाना हो चुका है.कामत ने कल रात 11 बजकर 44 मिनट पर अपने अंतिम ट्वीट में लोगों को ‘ईद की मुबारकबाद’ भी दी थी. संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अस्पताल पहुंचकर दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि दी.

परिवार का एक हिस्सा चला गया-गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कामत के असामयिक निधन पर शोक जताते हुए इसे पार्टी के लिए बड़ी क्षति बताया. गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘वरिष्ठ नेता गुरुदास कामत जी का असामयिक निधन कांग्रेस परिवार के लिए बड़ा आघात है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘गुरुदास जी ने मुंबई में कांग्रेस को खड़ा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, सभी उनका बहुत सम्मान और उनकी प्रशंसा करते थे. दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.’’

 

Rahul Gandhi

@RahulGandhi

The sudden passing away of senior leader Gurudas Kamat ji, is a massive blow to the Congress family. Gurudas ji helped build the Congress party in Mumbai & was greatly respected & admired by all. My condolences to his family in their time of grief. May his soul rest in peace.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी श्रद्धांजलि

कामत के यूं अचानक चले जाने से कांग्रेस में शोक की लहर है. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उनके असामयिक निधन पर शोक जताया है. मुखर्जी ने ट्वीट किया, ‘‘श्री गुरुदास कामत के अचानक और असामयिक निधन से शोकाकुल हूं. सरकार और पार्टी में वर्षों तक वह सहकर्मी रहे, इस अवस्था में उनका जाना दुखदाई है.’’

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने शोक संदेश में लिखा, ‘‘श्री गुरुदास कामत के अचानक और असामयिक निधन से मैं सकते में और दुखी हूं. मेरी संवदेनाएं उनके परिवार के सभी सदस्यों के साथ हैं. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.’’  गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी शोक जताया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता गुरुदास कामत के अचानक निधन से दुखी हूं. वह एक अनुभवी नेता थे जिन्होंने गृह मंत्रालय में राज्यमंत्री के तौर पर अपनी सेवा दी थी. मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और समर्थकों के साथ हैं.’’  कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘‘कांग्रेस नेता श्री गुरुदास कामत जी के अचानक निधन की सूचना पाकर बहुत आहत और दुखी हूं. इस क्षति को बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं. उनके परिजनों, मित्रों और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदनाएं. दिवंगत की आत्मा को शांति मिले.’’

गुरुदास कामत के राजनीतिक करियर पर एक नजर
मुंबई से पांच बार सांसद रहे कामत 1976 से 1980 तक एनएसयूआई के अध्यक्ष भी रहे थे. वह 2009 से 2011 तक केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री रहे. उनके पास संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी था. जुलाई, 2011 में उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. वह मुंबई क्षेत्रीय कांग्रेस समिति के अध्यक्ष भी रहे. पेशे से वकील कामत ने मुंबई के आर ए पोद्दार कॉलेज से स्नातक और सरकारी विधि कॉलेज से कानून की पढ़ाई की थी.