छत्‍तीसगढ़

MP: शिवराज कैबिनेट के मंत्री को बैंक ने घोषित किया डिफॉल्टर, अखबार में छपवाया नोटिस

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री सुरेंद्र पटवा की मुश्किलें आने वाले समय में बढ़ सकती हैं.  बैंक ऑफ बड़ौदा ने पटवा ऑटोमेटिव और इसके डायरेक्टर्स सुरेंद्र पटवा समेत कई लोगों के खिलाफ विलफुल डिफॉल्टर घोषित करने के लिए नोटिस जारी किया है. बैंक से करोड़ों रुपये  का लोन लेकर नहीं चुकाने के मामले में बैंक ने कर्ज लेने वाली संस्था पटवा ऑटोमेटिव प्राइवेट लिमिटेड के साथ राज्यमंत्री सुरेंद्र पटवा, उनकी पत्नी मोनिका पटवा, भाई भरत पटवा समेत दूसरे लोगों के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है.

दरअसल, बैंक ऑफ बड़ौदा से पटवा ऑटोमेटिव नाम की कंपनी ने लोन लिया था. लोन की रकम नहीं चुकाने के बाद बैंक ने प्रॉपर्टी को सीज किया था. बावजूद इसके बैंक को लोन की पूरी रकम नहीं मिली. 4 करोड़ बकाया राशि के लिए बैंक ने सुरेंद्र पटवा और परिजनों की संपत्ति की बिक्री पर रोक लगा दी थी. अब बैंक ने विलफुल डिफॉल्टर घोषित करने के लिए शोकॉज नोटिस जारी किया है.

बैंक ने बाकायदा इसके लिए अखबार में इश्तेहार देते हुए 15 दिन का समय दिया है. यानि कि 15 दिनों के बाद सुरेंद्र पटवा समेत बाकी सभी लोगों को डिफॉल्टर घोषित कर दिया जायेगा. इससे पहले सुरेंद्र पटवा का नाम तब भी सुर्खियों में आया था जब उनके दिए चेक बाउंस हो गए थे. उधार देने वाली फर्म ने जिला कोर्ट में पटवा के खिलाफ परिवाद दायर किया. मामले के सामने आने के बाद मंत्री विश्वास सारंग ने सुरेंद्र पटवा का बचाव किया है. वहीं कांग्रेस ने बीजेपी सरकार समेत राज्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.