क्रिकेट

विराट ने किया खुलासा, शुरुआत में सेहत के लिए नहीं, बल्कि इसलिए थे फिटनेस फ्रीक

विराट कोहली ने हाल ही में बताया कि शुरुआत में वे अपनी फिटनेस पर ध्यान तो देते थे लेकिन सेहत की वजह से नहीं.

नई दिल्ली: टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली अपने क्रिकेट कौशल के साथ ही अपनी फिटनेस के लिए भी जाने जाते हैं. यह बात किसी से भी छिपी नहीं है कि विराट कितने बड़े फिटनेस फ्रीक हैं. विराट इन दिनों पिछले दस दिन से सक्रिय क्रिकेट से दूर रहे. कोहली को भारत और वेस्टइंडीज के बीच टी20 सीरीज के दौरान आराम दिया गया था. विराट ने हाल ही में अपनी कप्तानी में वेस्टइंडीज को टेस्ट सीरीज में 2-0 और वनडे सीरीज में 3-1 से हराया था. विराट को इससे पहले इंग्लैंड दौरे के बाद एशिया कप से भी आराम दिया गया था. वेस्टइंडीज के भारत दौरे में टी20 सीरीज के दौरान मीडिया से बातचीत के दौरान अपनी फिटनेस के बारे में बात की.

विराट ने कहा कैसे पहले वे फिटनेस को गंभीरता से नहीं लेते थे और बाद में वे एक फिट एथलीट बन सके. विराट का मानना है कि उनका यह रूपांतरण शानदार रहा. विराट ने कहा, “ मै यह तो नहीं कहूंगा कि यह सटीक नहीं था. मैं यह भी नहीं कहूंगा कि मैनें कभी यह नहीं सोचा कि फिटनेस मेरे लुक को बढ़िया कर देगा, क्योंकि कभी न कभी सब यही सोचते हैं.”

सेहत से कभी समझौता नहीं किया विराट ने
विराट ने अपनी लाइफस्टाइल में काफी मजबूत बदलाव किए हैं. इसके लिए विराट ने अपनी ट्रेनिंग और डाइट में कभी समझौता नहीं किया. विराट ने कई बार यह कहा है कि क्रिकेट में अगले स्तर तक जाने के लिए फिटनेस उनका विशेष लक्ष्य है.

विराट ने कहा, “आप अंत में यह महसूस करते हैं कि यह आपकी मानसिक स्थिति, इस मामले में कि आप कैसा महसूसू करते हैं, आप कितना कर सकते हैं, को कितना फायदा पहुंचाता है. यह केवल खेल तक सीमित नहीं है क्योंकि काम के वातावरण में भी यह करता है. यदि आप फिट हैं तो आप ज्य़ादा काम कर सकते हैं, ज्यादा हासिल कर सकते हैं.  आप ज्यादा उत्पादक नहीं हो पाते हैं क्योंकि यदि आप ऊर्जावान नहीं रहेंगे, तो आप उतने उत्पादनशील नहीं रहेंगे.

शुरू में विराट को भी आई दिक्कत
उन्होंने बताया, “ शुरू में कुछ संघर्ष करने के साथ जोर भी लगाना पड़ा लेकिन बाद में फिटनेस और सघन ट्रेनिंग मेरी लाइफस्टाइल का हिस्सा हो गए. अब मैं फिटनेस अच्छा दिखने के लिए नहीं बल्कि फिट बने रहने के लिए ध्यान देता हूं. मेरी कुछ व्यवसायिक जरूरतें भी हैं. लेकिन इसके (क्रिकेट) बाद भी मुझे नहीं लगता है कि यह बदलेगा या मेरी लाइफ स्टाइल का हिस्सा बनेगा.”